अयोध्या में प्रभुराम बाल रूप में विराजमान हो चुके हैं। 22 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर का उद्घाटन किया। इस दौरान भगवान राम को पहनाया गया स्वर्ण मुकुट कई कीमती पत्थरों से सुशज्जित था। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीएम मोदी और संघ प्रमुख मोहन भागवत को उपहार भेंट किया। इन उपहारों में कीमती पत्थरों से जड़ा सोने का एक मुकुट और राम मंदिर की चांदी की दो प्रतिकृतियां शामिल हैं मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, तीन किलोग्राम वजनी प्रतिकृतियों को सूरत के जौहरी ने बनाया है। गुजराती उद्योगपति मुकेश पटेल सूरत स्थित ग्रीनलैब डायमंड्स के प्रमुख हैं। पटेल ने भगवान राम की मूर्ति के लिए 11 करोड़ रुपये का स्वर्ण मुकुट उपहार में दिया है। इसका वजह छह किलो है। प्रतिकृतियां सूरत के डी खुशालदास ज्वैलर्स ने चार महीने पहले बनाईं गईं थीं। खुशालदास ज्वैलर्स ने बताया कि दोनों मॉडलों को बनाने में कारीगरों को साढ़े तीन माह लग गए थे। लघु मंदिर हस्तशिल्प से बनाए गए हैं।
मणिक, मोती और नीलम मुकुट में लगाए गए
विहिप के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष दिनेश नावदिया ने कहा कि रामलला के लिए सोने और कीमती पत्थरों से बना मुकुट मंदिर को भेंट किया गया था। नवदिया ने कहा कि सूरत की कंपनी के दो कर्मचारी रामलला की मूर्ति के सिर का माप लेने आए थे। मुकुट तैयार होने के बाद विमान से उसे पांच जनवरी को अयोध्या लाया गया था। स्वर्ण के अलावा, इसमें छोटे और बड़े आकार के हीरे, माणिक, मोती और नीलम सहित अन्य कीमती पत्थर जड़े गए हैं भगवान राम के बाल रूप की मूर्ति को गर्भ गृह में स्थापना के बाद सोमवार को प्राण प्रतिष्ठा कर दी गई है। तस्वीर में रामलला माथे पर तिलक लगाए बेहद सौम्य मुद्रा में दिख रहे हैं। आभूषण और वस्त्रों से सुसज्जित रामलला के चेहरे पर भक्तों का मन मोह लेने वाली मुस्कान दिखाई दे रही है। कानों में कुंडल तो पैरों में कड़े पहने हुए हैं। मूर्ति के नीचे आभामंडल में चारों भाइयों राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न की छोटी-छोटी मूर्तियों की पूजा की गई है। श्रीराम जन्मभूमि न्यास ने विस्तार से 16 दिव्य आभूषणों के बारे में विस्तार से जानकारी दी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed