राज्य के प्राथमिक स्कूलों के लिए शिक्षकों की भर्ती का पैटर्न बदलने की तैयारी है। प्रवक्ता और एलटी कैडर शिक्षकों की भर्ती के समान ही प्राथमिक स्तर पर भी परीक्षा के जरिए चयन की व्यवस्था शुरू की जा सकती है। शिक्षा विभाग इसका प्रस्ताव तैयार कर रहा है। यूपी इस व्यवस्था को पहले ही लागू कर चुका है। डीजी-शिक्षा बंशीधर तिवारी ने इसकी पुष्टि की उन्होंने बताया कि शैक्षिक रिकॉर्ड को भी मिलेगी अहमियत डीजी तिवारी ने बताया कि परीक्षा प्रक्रिया से चयन के बाद प्रत्येक अभ्यर्थी के शैक्षिक रिकॉर्ड को भी देखा जाएगा। हाईस्कूल, इंटर मीडिएट, स्नातक, टीईटी-सीटीईटी आदि के प्रदर्शन को भी चयन की अंतिम प्रक्रिया में शामिल किया जाएगा। किसी भी बालक के व्यक्तित्व विकास में प्राथमिक शिक्षा बहुत महत्वपूर्ण होती है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 में भी बुनियादी शिक्षा पर विशेष फोकस किया गया है। ऐसे में शिक्षक का भी उत्कृष्ट होना बेहद जरूरी है। बेहतर शिक्षक के लिए चयन प्रक्रिया का कठोर और पारदर्शी होना जरूरी है परीक्षा पैटर्न लागूहोने से सीनियरिटी जूनियरिटी आदि से जुड़े विवाद भी समाप्त हो जाएंगे। साथ ही परीक्षा क्वालीफाई करने वाले योग्य अभ्यर्थियों का ही चयन होगा। जल्द ही परीक्षा पैटर्न लागू करने का प्रस्ताव सरकार को भेजा जाएगा। राज्य में बेसिक स्तर पर 2300 पदों पर भर्ती प्रस्तावित है। यूपी इस व्यवस्था को पहले ही लागू कर चुका है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed