जौनसार बावर क्षेत्र के सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थानों में सेवारत कर्मचारियों, अधिकारियों ने कोलकाता के वाटर ट्रीटमेंट प्लांट चितपुर में माघ मेले का आयोजन कर घर, गांव से हजारों किलोमीटर दूर रहकर भी अपनी जड़ों से जुड़े होने का एहसास कराया भारतीय का ध्यान निगम कोलकाता में संयुक्त निदेशक के पद पर कार्यरत

जौनसार बावर के सैंज गांव निवासी महावीर सिंह नेगी ने कहा है कि हम भले ही सरकारी सेवाओं में देश के किसी भी कोने में रहे परंतु हमारी जेडे हमेशा जौनसार बावर से जुड़ी हुई है। उन्होंने कहा है कि जो समाज अपने अतीत और संस्कृति को भूल जाता है वह समाज हमेशा मिट जाता है


विभाग में कार्यरत सरदार सिंह चौहान ने कहा है कि जौनसार बावर की संस्कृति, परंपरा, सामूहिक जीवन पद्धति विश्व विख्यात है। इस विशिष्ट संस्कृति का आभास युवा पीढ़ी को करने के लिए समय-समय पर जौनसार बावर से बाहर अपनी नौकरी व व्यवसाय करने वाले लोग इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित कर अपने रीति रिवाज और परंपराओं को जीवित रखने का प्रयास कर रहे हैं


उन्होंने कहा है कि कोलकाता में जौनसार बावर के परिवार निवास करते हैं इन सभी ने मेल मिलाप की दृष्टि से माघ महोत्सव का आयोजन किया जिसमें महिलाओं, युवाओं और बच्चों ने बाढ़-चलकर भाग लिया और इस महोत्सव को हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा।
कोलकाता में आयोजित हुए माघ महोत्सव में लोक संस्कृति पर आधारित लोकगीतों एवं लोक नृत्य का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित युवाओं एवं छोटे बच्चों को अपने संस्कृति से जोड़ने के लिए विभिन्न पारंपरिक खेलों के आयोजन अपने अतीत को याद किया।
इस दौरान इंदर सिंह रावत, कुन्दन सिंह चौहान, एल आर डिमरी, मेहर सिंह तोमर, चमन लाल शर्मा आदि लोगों उपस्थित रहे जौनसार बावर जनजाति कल्याण समिति दिल्ली द्वारा 7 जनवरी को एनडीआरएफ केंपस नेहरू नगर गाजियाबाद में माघ महोत्सव, वार्षिक मिलन समारोह का आयोजन किया जाएगा। यह जानकारी समिति के अध्यक्ष बीडी जोशी ने दी। उन्होंने कहा है कि इस महोत्सव में लोक संस्कृति पर आधारित कार्यक्रम होंगे वहीं जो अधिकारी सेवा निर्मित हुए हैं उनका सम्मान समारोह भी होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed