चारधाम यात्रा का आज दूसरा दिन है। चारधामों के लिए श्रद्धालुओं का उत्साह चरम पर है। इसकी बानगी यमुनोत्री में देखी जा सकती है। बता दें कि यमुनोत्री पैदल मार्ग पर पांव रखने की जगह नहीं मिल रही है। भारी भीड़ के चलते श्रद्धालु बड़कोट से जानकीचट्टी तक जगह-जगह फंसे रहे। यहां वाहनों की लंबी कतार सुबह से लगी रही। पैदल मार्ग पर ही जाम के कारण फंसे होने से लोगों को मंदिर तक पहुंचने में भारी परेशान उठानी पड़ रही हैं सरकार की तैयारियों पर सवाल इस स्थिति पर क्राउड मैनेजमेंट को लेकर उत्तराखंड की पुष्कर सिंह धामी सरकार की तैयारियों पर सवाल उठने लगे हैं

दरअसल, यमुनोत्री धाम में पहले ही दिन 12 हजार से अधिक लोगों के पहुंचने के बाद सवालों का सिलसिला शुरू हो गया। यमुनोत्री धाम में भारी भीड़ उमड़ने के कारण जाम जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई। लोग न आगे बढ़ रहे पा रहे थे, न पीछे जा पा रहे थे। ऐसे में श्रद्धालुओं को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ा। घोड़ा और खच्चर वाले अपने-अपने स्थान पर भी पहले दिन उतर नहीं पाए। पालकी वालों को भी कोई मदद नहीं मिली। चार धाम यात्रा में भारी भीड़ को देखते हुए पर्यावरणविद चिंतित नजर आ रहे हैं। वहीं, धामी सरकार में मंत्री सतपाल महाराज ने चार धाम यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं को लेकर नसीहत दी है। उन्होंने कहा है कि श्रद्धालु सरकार के निर्देशों का पालन करें। साथ ही, उन्होंने अधिकारियों को भी सख्त हिदायत दी है कि अफसर ‘अतिथि देवो भव:’ की परंपरा का विशेष ध्यान रखें। यात्रा तैयारी को पुख्ता बनाए रखने में अपना योगदान करें कपाट खुलते ही उमड़ा सैलाब यमुनोत्री मंदिर के कपाट शुक्रवार को अक्षय तृतीया पर देश-विदेश के श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिए गए। इससे पहले शुक्रवार की सुबह मां यमुना की उत्सव डोली शीतकालीन प्रवास खरसाली, खुशी मठ से अपने भाई शनिदेव की अगुवाई में यमुनोत्री धाम पहुंची। रोहिणी नक्षत्र की बेला में वैदिक मंत्रों के पाठ और विधि-विधान के साथ तीर्थ-पुरोहितों की उपस्थिति में सुबह 10:29 बजे मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोल दिए गए। इसके बाद श्रद्धालुओं का हुजूम यमुनोत्री धाम में उमड़ पड़ा। पहले ही दिन कुल 12,913 भक्तों ने दर्शन किए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed